पहली राखी तेरे बिन

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

सबकुछ सूना सूना है तेरे बिन
हमारी पहली राखी है तेरे बिन

सबकी कलाईयाँ भरी हैं
हमारी कलाई उदास हैं
सबके लबों पर हँसी है
तेरे भाई उदास हैं तेरे बिन
हमारी पहली राखी है तेरे बिन

हर बार तेरा इन्तजार किया
देर होने पर कितना फोन किया
मुस्कान बिखर गयी चेहरे पर
तूने जब प्रेम धागा बांध दिया
अनंत है इन्तजार अब तेरे बिन
हमारी पहली राखी है तेरे बिन

तू देख ले हमें अनंत आकाश से
तेरे लिए वही प्यार का अहसास है
मन थोड़ा भारी है पलकें भी नम हैं
तेरे चले जाने का हम सबको गम है
कौन भरेगा हमारी कलाई तेरे बिन
हमारी पहली राखी है तेरे बिन

माँ जो सेवइयाँ तोड़ते न थकती थी
तेरे लिये डिब्बे भर भर रखती थी
मीठा तो तुझे बिल्कुल पसन्द न था
मैगी जैसी सेवइयाँ तैयार करती थी
मैदा तक न लाई इस बार तेरे बिन
हमारी पहली राखी है तेरे बिन ।

" सन्दीप कुमार "
18/08/2016

Views 62
Sponsored
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 60
Total Views 5.3k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments