पसीने से ख़ुद को तो भिगाया करो

अजय कुमार मिश्र

रचनाकार- अजय कुमार मिश्र

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़म की हो या हो ख़ुशी का ही पल
दोस्तों को तुम मत भूल जाया करो/

रिश्तों में कुछ नयापन सा आ जाएगा
संग उनके तो महफ़िल सजाया करो/

मिल जाएँगी ख़ुशियाँ तो बे-इंतहा
रोतों को ही अगर तुम हँसाया करो/

दौड़ते को तो गिराते ही सब हैं यहाँ
गिरते को अब तुम तो उठाया करो/

राह कठिन हो,मिलेगी मंज़िल मगर
पसीने से ख़ुद को तो भिगाया करो/

दायित्वों का गर बोझ बढ़ ही गया
बारिश में तब खुलकर नहाया करो/

लौट बचपन में थोड़ा तुम तो चलो
काग़ज़ की नाँव कभी बहाया करो/

जो तुम्हारी फ़िकर करते रहते सदा
उनको तो तुम मत भूल जाया करो/

पा जाओ ही जब उन्नति का शिखर
मग़रूर कभी भी मत हो जाया करो/

बुज़ुर्गों की नेकी से ही फलते हैं हम
उनसे तो अदब से पेश आया करो/

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजय कुमार मिश्र
Posts 31
Total Views 2.3k
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद से परिवर्तित होकर सामाजिक संवाद का रूप धारण कर लिया है। कविता , शेर , ग़ज़ल , कहानियाँ , लेख लिखता रहा हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia