” ——————————————— पल पल को महकाऊँ ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

तेरे मन की भाषा जानूँ , खड़ी खड़ी मुस्काउं !
जुल्फों की जंजीर न बाँधूँ , आओ इसे लहराउं !!

कुन्दन कुन्दन देह सजी है , केसरिया है बाना !
चन्दन जैसी महकी साँसें , पल पल को महकाऊँ !!

रंग हीना का चढ़ा गज़ब है , हरएक मुझको टोके !
तेरी प्रीत हृदय बसी है , कैसे इसे जताऊं !!

गालों पर बिखरे गुलाब हैं , अधरों पर अगवानी !
हया हुई है आज हवा सी, खुद से ही शरमाऊं !!

नयनों में एक नशा चढ़ा है , पलकें बोझिल बोझिल !
हवा करे है अगर शरारत , बहकी बहकी जाऊं !!

कर्ण सुने पदचाप जरा सी , मन बेकल होता है !
वक्त यों ही काटे ना कटता , कैसे दिल बहलाऊँ !!

कदमताल होती है प्रतिपल , ऐसी एक हलचल है !
दरवाजे पर दस्तक पाकर , खुशी से मैं लहराउं !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 33
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia