” ——————————————– पलकें लगे सजल सी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

मन की बातें कही ना जाए , खामोशी में पलती !
यही वेदना अगर मुखर हो , अश्कों में है ढलती !!

सजना धजना कोरा लगता , आसमान खाली सा !
कांधे लदी बहारें मानो , जान बूझ हैं छलती !!

बंजारिन सा डेरा खाली , हंसी आंख से ओझल !
अधर अनमने आज लगे हैं , खुशियां लगे फिसलती !!

आहट कानों पर ना ठहरे , खोयी खोयी सिहरन !
काया हुई शिथिल है ऐसे , पल पल रंग बदलती !!

पवन संदेशे आते जाते , भूल गये लहराना !
इतराने वाले पल रूठे , पलकें लगे सजल सी !!

खुशहाली आनी जानी है , इतना तो हम जानें !
तुम वादे तोड़ो अपने तो , नीयत लगे मचलती !!

अभी लालसा कायम सी है , कल हों सपने पूरे !
आस जगी है नयी नयी सी , तबियत लगे संभलती !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 31
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 122
Total Views 29.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia