परेशान तन है ……..

Awneesh kumar

रचनाकार- Awneesh kumar

विधा- कविता

परेशान तन है
बेचैन मन है

उलझन में जान है
बहुत परेशान है

पत्तो सा टूट रहा हु
किसी बंधन सा छूट रहा हु

तिल-तिल मर रहा हु
घुट-घुट कर जी रहा हु

कुछ ना किया तो हार है
कुछ किया तो जीत कर भी हार है

कैसी ये मजधार
आँखों में आँशु की धार है
मन बहुत परेशान है।(अवनीश कुमार)

Sponsored
Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Awneesh kumar
Posts 63
Total Views 621
नमस्कार अवनीश कुमार www.awneeshkumar.ga www.facebook.com/awneesh kumar

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia