….. .. पद ……

Dr Chandra

रचनाकार- Dr Chandra

विधा- कविता

भगवन!क्यों नहिं दर्शन पाऊँ ।
योग मंत्र श्रुति ग्रन्थ न जानू , कैसे तुमको ध्याऊँ ?
मृदु-पद उन्मुख सतत् हृदय में , मूरति मञ्जु सजाऊँ ।
सजल नयन अवरुद्ध कण्ठ से , कैसे मैं गुण गाऊँ ?
असुर कुपित पतितों को तारा , कैसे यह बिसराऊँ ?
राम रटूँ शिव श्याम मान सम , मुरली मधुर बजाऊँ ।
अगणित जीवन वार चुका , अब, हठ कर प्राण गवाऊँ ।

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr Chandra
Posts 22
Total Views 189
Doctor (Physician) &Writer , live in Lucknow U.P.India

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia