…. पद …2

Dr. umesh chandra srivastava

रचनाकार- Dr. umesh chandra srivastava

विधा- कविता

भगवन ! कैसे दर्शन पाऊँ ?
तीरथ चारो धाम गया जा , सागर गंग नहाऊँ ।
अर्पण तर्पण पूर्ण समर्पण , कंठी कर सरकाऊँ ।
उपक्रम पूजन षटकर्मो सँग , कोटिक सुमन चढ़ाऊँ ।
मन्दिर मस्जिद गिरजाघर में , नित निज शीष नवाऊँ ।
किस विधि ध्याऊँ भाव सुझाओ, भव-सागर तर जाऊँ ।

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr. umesh chandra srivastava
Posts 51
Total Views 381
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia