पत्थरबाजों की सेना

Pooja Singh

रचनाकार- Pooja Singh

विधा- कविता

"पत्थरबाजों की सेना तुम ,
कान खोलकर सुन लो आज !
काश्मीर तो है भारत का ,
बात मान लो ये तुम आज !
भारत के टुकड़ों पे पलके ,
उसको गाली देते हो ?
जो सैनिक हैं रक्षा करते ,
उनको अपमानित करते हो ?
आस्तीन के सांप हो तुम सब ,
जो पाक की भाषा बोलते हो !
आज मांगते काश्मीर हो ,
कल दिल्ली तक आओगे ?
धीरे धीरे तुम भारत को ,
पूरा पाकिस्तान बनाओगे ? ?
सपना देखना अच्छा है पर ,
वो भी तो औकात में देखो !
खुले हाथ जिस दिन सेना के ,
तुम खुद को सिंधु के उस पार ही देखो !!

(पूजा सिंह )

Sponsored
Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pooja Singh
Posts 17
Total Views 620
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia