पति गये परदेश

मधुसूदन गौतम

रचनाकार- मधुसूदन गौतम

विधा- गज़ल/गीतिका

गये पति परदेश सखी री कब तक पन्थ निहारु।
मेरे इस मन के आंगन को कब तक रोज़ बुहारू।
इस तन के तान तम्बूरे के भी नित ही तार उतारू।
भरे भाव भरपूर जिया में कब तक उन्हें सम्भारू।
कहाँ कबूतर रहे आज और चिट्ठी तार पुरानी बातें।
गया जमाना सतयुग वाला जब लम्बी होती रातें।
आज हाथ में मोबाईल है पल पल वो नजरातें।
ऐसे में तन वन्हि धधके सावन सहे न जाते।
खूब कमाई करते साजन कंचन बहुत पठाते।
तोहफे जम्फर साड़ी गाड़ी जाने कितनी सौगाते।
समय समय पर मेरे खातिर रहते वो भिजवाते।
सब कुछ मिलता मुझे यार बस वो नही आपाते।
ऐसे में फिर मै इतराती पर समझ नही कुछ अाती।
कभी कभी तो क्या बोलूं री मति मेरी मारी जाती।
सही न जाती तन की पीड़ा जब यादे बहुत सताती।
आग बुझाऊ मन समझाऊ पर कर कुछ नही पाती।
जी करता है जीवन जो है इसको पूरा जी पाऊं।
थोथे आदर्शो को छोडूँ पूरा मौज मनाऊं।
किया नही जो कभी काम भी वो भी मै कर जाऊं।
पर सोच सोच बहुतेरी बातें मन ही मन पछताऊ।

मधु गौतम

Views 18
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मधुसूदन गौतम
Posts 68
Total Views 1.2k
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia