पतझड़ है ज़िंदगी

दुष्यंत कुमार पटेल

रचनाकार- दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

विधा- गज़ल/गीतिका

वो छोड़ा है शहर जबसे पतझड़ है ज़िंदगी
भीगी-भीगी सी आंखे है पतझड़ है ज़िंदगी

बसर करे कहाँ ढह गया है आशियाना
खो गई है खुशियाँ कहाँ पतझड़ है ज़िंदगी

न किया फ़िर इस दिल ने उसका इंतज़ार
गम से कर ली है दोस्ती पतझड़ है ज़िंदगी

रुसवा भी हुए चाहत में , फना भी हो गये
तन्हाई का आलम है पतझड़ है ज़िंदगी

जीवन अधूरा डूब गई सपनों की नईया
पीर की बयार आ ठहरा पतझड़ है ज़िंदगी

यादों की भंवर में फस गया दिल बेचारा
न सावन न मधुमास पतझड़ है ज़िंदगी

माना हमें बना दी उसकी यादों ने शायर
छूप-छूप के रो रहें है पतझड़ है ज़िंदगी

"दुष्यंत" तूने क्या पाया जालिम दुनिया से
पल-पल है चोट खाया पतझड़ है ज़िंदगी

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 43
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
दुष्यंत कुमार पटेल
Posts 86
Total Views 3.5k
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia