“ पगडंडी का बालक ”

DESH RAJ

रचनाकार- DESH RAJ

विधा- कविता

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को हमने देखा,
नन्हें हाथों में बस्ता, उसकी आँखों में आशा की किरणें देखा I

उसके पेट में भूख व हाथ भी था खाली ,
मन बेचैन पर उसने संघर्षो से हार न मानी ,
“विधा” से भूख मिटाया, संयम की भरी थाली,
प्रण किया लक्ष्य प्राप्ति पर ही मनाऊंगा दिवाली I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
बालक ने माँ की ममता व बूढ़े पिता को कर्जो से दबे देखा I

राह में कांटे पर निकला व बिल्कुल अकेला ,
सबको पीछे छोड़ दिया जिनके साथ पढ़ा-खेला ,
“ज्ञान” हासिल कर बन गया वो सबसे अलबेला ,
“राज” खो न जाये कहीं, विशाल है जगत का मेला I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
राह के साथियों को आशा भरी नज़रों से निहारते देखा I

विश्वास है वह विजय पताका फयरायेगा ,
अपनों का दर्द उसे हमेशा ही याद आयेगा,
पगडंडी के हर एक राही को सीने से लगायेगा ,
“सूरज” बनकर दुनिया को रोशनी दिखायेगा I

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को देखा,
लक्ष्य प्राप्ति की तमन्ना व अपनों से उसका प्यार देखा I

“ माँ ” का बालक से एक अदभुत सवाल ,
क्या तूने परिश्रम किया अपने लिए लाल ?
नहीं i तुझे तोड़नी है “निरक्षरता की दीवाल”,
तभी हर गली-गाँव का बच्चा होगा खुशहाल I

उपरोक्त कविता मेरे देश के लाखों अभावग्रस्त बालकों को समर्पित है जो संघर्षों से हार न मानते हुए अपनी मंजिल प्राप्त करते है I

देशराज “राज”
कानपुर

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 62
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
DESH RAJ
Posts 16
Total Views 1.1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia