पकड़ो आत्म-सुबोध,दिव्य गुरु का साया तुम

बृजेश कुमार नायक

रचनाकार- बृजेश कुमार नायक

विधा- कुण्डलिया

तुम ,नव संवत पर बनो, मानवता-महबूब|
ग्रहण करो सद्ज्ञान तब, परमानंदी-खूब||
परमानंदी-खूब, मिलेअनुपम विकास-कन|
अमल प्रेममयरूप,और सद्गुण-प्रकाश मन||
कह "नायक" कविराय, छोड़ दो जग-माया-दुम|
पकड़ो आत्म-सुबोध,दिव्य गुरु का साया तुम||

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता

महबूब=प्रेमी
परम=अत्यंत
आनंदी=प्रसन्न रहने बाला
खूूूूब=उत्तम

Views 63
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बृजेश कुमार नायक
Posts 128
Total Views 23k
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा Ex State trainer, ex SPO NYKS UP, Govt of India Ex Teacher AOL1course VVKI "जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक"कृतियाँ प्रकाशित साक्षात्कार, युद्धरत आम आदमी सहित देश के कई प्रतिष्ठित पत्र एवं पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेकों सम्मान एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित,नि.-सुभाष नगर, कोंच सम्पर्क 9455423376whatsaap9956928367

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia