नज़्म..

ANURAG Singh Nagpure

रचनाकार- ANURAG Singh Nagpure

विधा- अन्य

सोचता हूँ…
दोनो आस्तीनों के सहारे लटके,
मज़बूरियों का बैग उतार दूँ,
पीठ से अपनी..
और बदल दूँ ये खाल,
बदन की एक रोज़..।

सोचता हूँ…
जिस्म को सोते हुये छोड़कर,
मैली रूह निकाल लूँ चूपके से,
इसकी …
एक पानी निचोड़कर,
सूखा दूँ इसको भी,
एक रोज़…।

आसान है क्या !!!!
किसी ने करके देखा है?
कोई तजूर्बा है क्या;किसी को…??

@अनुराग©

Views 1
Sponsored
Author
ANURAG Singh Nagpure
Posts 7
Total Views 31
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia