“”””””नेता जी “”””””

Santosh Barmaiya

रचनाकार- Santosh Barmaiya

विधा- कविता

व्यंग्य
*********
मेरे देश का दुर्भाग्य, यहां नेता बूढ़ा होता है।
नवयुवक बूढ़ा होते तक, नेता को ढोता है ।।

सोच पर न जा पगले, बुढ़ापा भूत दिखलाए।
नवयुवक भविष्य काल के सपने संजोता है।।

समाज को न दे कुछ,बस लेता ही लेता है ।
राज करने की नीति बनाए वही नेता होता है।।

साक्षात्कार में एम एल ए का पूछा जब मतलब,
इसकी न पड़ी जरूरत , कह नेता मुस्काता है।।

खेल अध्यक्ष नेता, कप्तान से किया सवाल ।
नो बाल रहे, बॉलर छः फेक क्यों लौट जाता है?

जो भी आए टी वी पर विकास उसका मूलमन्त्र।
गैस, रसोई, पानी,तेल, सब पर टैक्स लगाता है।।

कैसे हो सोचो इस देश का उद्धार दोस्तों ? जहां,
जो दे चंदा उसका नेटवर्क, बाकी व्यस्त दिखाता है।।

दुनिया चलाती एटजी, नौजी, दसजी नेटवर्क, यहां,
विकास के मारे थ्री जी भी कमजोर पड़ जाता है।।

सुबह से लेकर शाम तक जाने कितनो से काम पड़ा,
किसी का भी नहीं धर्म, जो लड़ना सिखलाता है।।

रोज शाम को चन्द नेताओं की बहस देखते टी वी,
धर्म मन्दिर-मस्जिद का मुद्दा लंबा खींचा जाता है।।

यह ऐसी खेले राजनीति, शहीदों के खून से यहाँ,
सैनिक शहादत को मुठभेड़ की मौत बोल जाता है।।

अच्छा हुआ मेरे मुल्क की सेना में नेता नही साहब,
वरना कहते! है खरीददार, ये देश बेचा जाता है।।

चुनाव के दौर में, एक सच सामने आया "जय",
"नेता बाप" की "आह" से, बेटा चुनाव हार जाता है।।
************
संतोष बरमैया "जय"

Views 159
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Santosh Barmaiya
Posts 41
Total Views 819
मेरा नाम- संतोष बरमैया"जय", पिताजी - श्री कौशल किशोर बरमैया,ग्राम- कोदाझिरी,कुरई, सिवनी,म.प्र. का मूल निवासी हूँ। शिक्षा-बी.एस.सी.,एम ए, बी.ऐड,।अध्यापक पद पर कार्यरत हूँ। मेरी रचनाएँ पूर्व में देशबन्धु, एक्स प्रेस,संवाद कुंज, अख़बार तथा पत्रिका मछुआ संदेश, तथा वर्तमान मे नवभारत अखबार में प्रकाशित होती रहती है। मेरी कलम अधिकांश समय प्रेरणा गीत तथा गजल लिखती है। मेरी पसंदीदा रचना "जवानी" l

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia