*=* नारी शक्ति को समर्पित *=*

Ranjana Mathur

रचनाकार- Ranjana Mathur

विधा- कविता

नारी
न कहिए उसको बेचारी।
नही है बेबस न कोई लाचारी।
पुरुष को देना छोडो़ दोष।
वह नहीं है अत्याचारी।
बुराई तो छिपी है खुद जड़ों में हमारी।
पुरुष ने तो सदा दिया है साथ।
दिया है नारी ने ही नारी को आघात।
क्या हमें मिली हुई पीड़ा,
बदले में किसी को पीड़ा देने से हो जाएगी कम।
"मेरी सास ने तो इतना – इतना किया। हमने भी तो सब सहन किया।
ये तो उसके सामने कुछ भी नहीं है "
यदि इन हार्दिक उदगारों की जगह
यह हो कि-
" हां बेटी मैं समझ सकती हूं तेरी पीड़ा।
मैं जब इस जगह थी मुझे भी बड़ी तकलीफ हुई थी।
-आ मैं तुझे उन तकलीफों से निजात दिलाऊं
-सारे झूठे ढकोसलों से मुक्त कराऊं
-बहू को बेटी के समान दर्जा दिलाऊं
-नारी हूं नारी की पूर्ण पक्षधर बनकर दिखलाऊं।"
है उम्मीद कि यह दिन भी कभी न कभी आएगा।
आशा है कल का सूरज आशा की नूतन रश्मि बन जाएगा।
नारी शक्ति को और भी सुदृढ़ और भी सबल बनाएगा।

—रंजना माथुर दिनांक 28/06/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Sponsored
Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ranjana Mathur
Posts 106
Total Views 3.6k
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र "कायस्थ टुडे" एवं फेसबुक ग्रुप्स "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं "प्रयास" में अनवरत लेखन कार्य। लघु कथा, कहानी, कविता, लेख, दोहे, गज़ल, वर्ण पिरामिड, हाइकू लेखन। "माँ शारदे की असीम अनुकम्पा से मेरे अंतर्मन में उठने वाले उदगारों की परिणति हैं मेरी ये कृतियाँ।" जय वीणा पाणि माता!!!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia