नारी व्यथा

डॉ०प्रदीप कुमार

रचनाकार- डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

विधा- कविता

" नारी-व्यथा "
""""""""""""""""""

कैसी निर्बल ?
कैसी निशक्त ?
क्यों अबला मैं बन बैठी ??
क्यों मेरा अपमान हुआ ?
क्यों मेरा चीर-हरण हुआ ?
क्यों बाजारों में बेची जाती ?
क्यों बोटी-बोटी नोची जाती ?
जर्जर होती मानवता से !
क्यों बारम्बार , खरोंची जाती ??
कभी बनाया देवदासी !
तो कभी बनाया हरमवासी !!
सदियों से क्यों सहती आई ?
क्यों अग्निपरीक्षा देती आई ?
विष प्याला भी मैं ही पीऊँ !
क्यों कतरा-कतरा मैं जीऊँ ??
जब याद करूँ मैं निर्भया को !
निर्भय होने से डर जाऊँ !
साँझ अगर हो जाए तो……
डरती-डरती घर को जाऊँ ||
क्यों लव-जेहाद का लक्ष्य बनूँ ?
क्यों बर्बादी का साक्ष्य बनूँ ?
टूटा दिल और टूटे सपने !
हर बार ही मैं क्यों भक्ष्य बनूँ ??
हे नारी तू ! खुद ही जाग ,
निर्मित कर तू अपना भाग !
"दीप" के जैसी ज्योति बनकर !
तू बता उन्हें ! जो हैं निर्भाग ||

"""""""""""""""""""""""""""""""""""""
डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"
"""""""""""""""""""""""""""""""""""""

Sponsored
Views 36
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
Posts 81
Total Views 511
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत) सम्पर्क सूत्र : 09461535077 E.mail : drojaswadeep@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia