नारी : मातृभूमि

निहारिका सिंह

रचनाकार- निहारिका सिंह

विधा- अन्य

सुकुमार कुमुदिनी , लिए कृपाण ,
नयनों में लिए बदले के बाण ।
पति संग देशसम्मान बचाने को ,
कर दिए मातृभूमि पर निछावर प्राण ।।

हाँ मैं नारी हूँ ,
कठिनाईयों से न हारी हूँ ।
जब जब बन आयी सम्मान पर ,
गर्जन कर दुश्मन पर भारी हूँ ।।

निहारिका सिंह

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निहारिका सिंह
Posts 14
Total Views 201
स्नातक -लखनऊ विश्वविद्यालय(हिन्दी,समाजशास्त्र,अंग्रेजी )बी.के.टी., लखनऊ ,226202।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia