नारी-मन

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- गीत

###नारी-मन

मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो ।
कुछ ऐसे ही अविरल मेरी उन्नति हो ।।

हो ये तन मेरा साजन की बाँहों में ।
उनकी छाया बसी रहे निगाहों में ।।
हो नाम उनका मेरी हरेक आहों में ।
मेरे दिन-रात कटे उनकी पनाहों में ।।
कुछ इस तरह मेरे जीवन की गति हो–
मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो ।

दो फूल मुस्काए मेरे इस बगिया में ।
हो दूध आँचल में सुकून अँखिया में ।।
मीठे सपने आते रहे मेरी नींदिया में ।
ये जीवन कट जाए मीठी बतिया में ।।
मेरे पिया संग ऐसी मेरी सुमति हो —
मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो ।

इस प्रेम-बँधन की यही कहानी हो ।
मेरे साजन राजा और मैं रानी हों ।।
मेल हमारा जैसे दूध और पानी हो ।
खुशियों में डूबी यह ज़िंदगानी हो ।।
हर नारी की जग में यही सुगति हो –
मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो ।

मन में मेरे हमेशा श्लील प्रवृत्ति हो ।
बुद्धि में मेरी हरदम परिष्कृति हो ।।
आचरण में हरपल नारी-प्रकृति हो ।
मेरा नारी-मन नारी की शक्ति हो ।।
जग में हरेक नारी की यही सद्गति हो —
मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो ।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
08. 04. 2017

Views 9
Sponsored
Author
दिनेश एल०
Posts 57
Total Views 445
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia