नारी का सम्मान

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

पेंडिंग हों जहँ रेप के, . केस करोड़ों यार !
तहँ रमेश महिला दिवस, लगता है बेकार !!
कहने को महिला दिवस,. सभी मनाएं आज।
नारी की लुटती रहे, ….मगर निरंतर लाज !!
बेटी माँ सासू पिया,..सबका रखे खयाल !
नारी के बलिदान की,क्या दूँ और मिसाल !!
नारी के सम्मान की, बात करें पुरजोर !
घर में बीवी का करें,तिरस्कार घनघोर!!
नारी का होता नहीं, वहां कभी सम्मान !
जहां बसे इंसान की ,.. सूरत में हैवान !!
उलट पुलट धरती हुई,बदल गया इतिहास !
पृथ्वी पर जब जब हुआ नारी का उपहास !!
नारी को ना मिल सका,उचित अगर सम्मान !
शायद ही हो पाय फिर भारत का उत्थान !!
नारी की तकदीर में,. कहाँ लिखा आराम !
पहले ऑफिस बाद में,घर के काम तमाम !!
सास ससुर बच्चे पती,जो भी रहता साथ !
ध्यान सभी का आपको,काम करे निस्वार्थ !!
नारी ही करती नही,नारी का सम्मान !
नारी के गुणधर्म की,कैसे हो पहचान !!
रमेश शर्मा

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 54
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 133
Total Views 1.4k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia