नसीब

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

सुनने में लगती हमें, सचमुच बात अजीब !
बने न जिसका काम वह, कोसे बैठ नसीब !!
……..
गढ़ता है समभाव से , सारे कलश कुम्हार !
बनते मगर नसीब से, …सही आठ मे चार! !
………
लाते हैं परिवार मे,,अपना सभी नसीब!
कोई हो जाए धनी, …..कोई रहे गरीब! !
…………
मकड़ी सी कारीगरी,.. बगुले सी तरकीब !
दुनिया मे होती नही,सबको सहज नसीब!!
………..
पडे पौष की ठंड या,…..रहे जेठ का घाम!
किस्मत में मजदूर की,लिखा कहाँ आराम! !
रमेश शर्मा

Sponsored
Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 178
Total Views 3.4k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia