नव वर्ष की शुभकामनाएं

बृजेश कुमार नायक

रचनाकार- बृजेश कुमार नायक

विधा- गीत

साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
नित वसंती हवाओं का अनुदान दे

दिल तुम्हारा सदा ही सुहावन रहे
मन अमलता ग्रहण कर के पावन रहे
आतमा जागे, आनंद का भान दे
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
नित बसंती हवाओं का अनुदान दे

आपकी डग सघन प्रेम-फूलों में हँस
कह रही विषधरों से सु चंदन हूँ डँस
मुग्ध हो खल फँसे, ऐसी मुस्कान दे
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
नित बसंती हवाओं का अनुदान दे

ज्ञानी आभा हृदय को प्रकाशित करे
प्रेमी अंतकरण को सुभाषित करे
ईश तुमको भी वह दिव्य गुण-ज्ञान दे
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
नित बसंती हवाओं का अनुदान दे

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता

-उक्त गीत जे एम डी पब्लिकेशन नई दिल्ली द्वारा प्रकाशित "राष्ट्रभाषा भाषा हिंदी सागर" त्रैमासिक पत्रिका अंक जनवरी-मार्च 2017 में प्रकाशित हो चुका है|

-मेरे फेश बुक पेज "Brijesh Nayak की रचनाएं"
में भी उक्त गीत पढा जा सकता है |

– आपको दिनांक-29-03-2017 से प्रारम्भ होने बाले
विक्रम संवत 2074, भारतीय नव वर्ष एवं नव रात्रि की अनंत हार्दिक शुभकामनाएं |
-ईश्वर आपको यश-सम्मान एवं आनंद की अनुभूति प्रदान करे|

बृजेश कुमार नायक
सुभाष नगर कोंच- 285205

Sponsored
Views 134
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बृजेश कुमार नायक
Posts 137
Total Views 35.2k
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर, कोंच,जालौन,उ.प्र.-285205 मो-9455423376व्हाट्सआप-9956928367 एवं8787045243

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia