नवगीत।बेटी घर की सुंदरता है ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रचनाकार- रकमिश सुल्तानपुरी

विधा- गीत

नवगीत।। बेटी घर की सुंदरता है ।। (बेटियां)

ईश्वर की अनुपम रचना है
प्रकृति का उत्तम उपहार
सतरंगी खुशियों वाली वह
भर देती जीवन में प्यार
रूप सलोने
बोल तोतली
अमृत रूपी कोमलता है ।
बेटी घर की सुंदरता है ।।1।।

देख तितलियों को इठलाती
रखे जुगनुओं तक की चाह
अपने मन का खेल रचाती
गुड्डे संग गुड़ियों का व्याह
फूलों जैसी
मुस्कानों से
आँगन सदा महकता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।।2।।

सुख में दुःख में सम व्यवहारी
रचती स्नेहिल परिवेश
माँ की ममता पिता वचन को
कभी न पहुँचाती वह ठेष
दुःख की रजनी
में हर्षाती
सुख में सच्ची सहजता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।।3।

बेटों से कम नही बेटियां
दिन दिन करती नव प्रयास
खेल खेल में हँसती गाती
रचती जाती है इतिहास
रौशन करती
नाम देश का
इन्हें रोकना बर्बरता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।।4।।

बेटी,पत्नी,बहू ,बहन बन
देती है पुरुषों का साथ ।
माँ बनकर ममता उमड़ाती
करती जीवन का सूत्रपात
हर पथ पर वह
नेह सँजोती
स्वाभिमान है ,निजता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।। 5।।

बेटी है हर घर की शोभा
करती है शोभित संसार
बहन बिना सूना लगता है
रक्षाबन्धन का त्यौहार
रीति रिवाज़ो
की भरपाई
कैसे कोई करता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।।6।।

बेटी वांछनीय धन सबका
बेटी है सुदृढ़ स्तम्भ ।
नव स्वर्णिम इस नव समाज का
बेटी ही करती प्रारम्भ
युगों युगों से
नव गेहो में
रोपी जाती एक लता है ।।
बेटी घर की सुंदरता है ।। 7।।

अंतरिक्ष हो , पर्वत चोटी
या कोई खेल निराला हो
राजसिंहासन की इच्छा या
चाहे विष का प्याला हो
पी जाती वह
समझ के अमृत
गौरव की जिसे सजगता है ।
बेटी घर की सुंदरता है ।। 8।।

©राम केश मिश्र

Sponsored
Views 169
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रकमिश सुल्तानपुरी
Posts 104
Total Views 1.7k
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia