नर- नारी

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- कविता

नर -नारी
✍✍✍
सतत निर्झरिणी सी बहती हूँ
सबके ही दिल में रहती हूँ
नर की मर्यादा बन सजती हूँ
मैं नारी हूँ

पिता के आँगन की शोभा भी मैं
उनके दिल का आह्लाद भी मैं
किल्लोंले कर सबको रिझाती मैं
मैं नारी हूँ

थका हारा दिन बीते आता नर
प्यार का अंजन लगाती मैं
स्पर्श मात्र से थकान दूर भगाती
मैं नारी हूँ

कविता कामिनी बन बिराजती
नेह नित्य बरसायिनी मैं
अधरों की हँसी बन खिलती
मैं नारी हूँ

हर ताप से मन को मैं दूर करती
सारी व्यथा उसकी मैं हर लेती
छिपा आँचल में उसको मैं लेती
मैं नारी हूँ

डॉ मधु त्रिवेदी

Sponsored
Views 31
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 279
Total Views 5.1k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia