” —————————————- नयना बस बहते हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

मंत्री जी के यही आंकड़े , रोज़ शिशु मरते हैं !
और मीडिया किस्से गढ़कर , झूंठ सदा गढते हैं !!

मां की गोदें सूनी सूनी , मातम यहां वहां है !
होती हैं बयानबाजियां , नयना बस बहते हैं !!

होते रोज़ विलाप यहां हैं , होते भी हैं क्रंदन !
यहां चिकित्सक नहीं मसीहा , पेशा बस करते हैं !!

ऑक्सीजन आपूर्ति बंधक , कैसी मानवता है !
नोटबन्दी चाहे हो जाये , लाभ जुड़े रहते हैं !!

राजनीति हैं यहां चरम पर , केवल दोषारोपण !
सेवा मदद कौन चहता है , भाव यही कहते हैं !!

निर्धन की है दौड़ वहां पर , शुल्क जहां ना लागे !
कहाँ जाए बचकर बेचारा , देव वहां ठगते हैं !!

सरकारें सोई रहती हैं , जागे दुर्घटना से !
इसीलिये जनता के आंसू , सदा यहां बहते हैं !!

बेबस जनता करे प्रदर्शन , और हाथ क्या उसके !
प्रजातंत्र शासन चतुरों का , सुधिजन यह कहते हैं !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 127
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia