नन्ही-सी जान

शिवम राव मणि

रचनाकार- शिवम राव मणि

विधा- कविता

देखो एक खिलखिलाती मुस्कान जन्म
लेती हुई नन्ही-
सी जान चमकती हुई आँखे
है
उन आँखो मे है तहजीब का ग्यान.
चेहरे पर एक खुशी है लेकिन उस
जननी की आँखे
भीगी है
गोद मे लिए उसे अपने
आँचल से छुपा रही है
कि कोई देख न ले उसे
चोट न कोई पहुँचाए दुर्भाग्य कहती है
उस बेटी का जिसने कुछ ही
पल अपने माँ के साथ है बिताएँ.
उम्मीदों की एक बरखा
थी
कुछ लोगो की चाह थी
बेटी को अस्तित्व मे देख
उन्ही लोगो के हाथ मे म्यान से
निकली तलवार थी.
उस बेटी की रोदन
भी सुनों केवल आत्मज का बल न देखो
घर के अंधियारी मे जो दिया जले वो
बत्ती नही उस
बेटी की खनक को देखो.
भूले तो जमाना ये जग
भूले तो वो भी थे
जिन्हे लगा पंछी एक पर से उड़े वो उड़ान
भी केवल एक भरम ही थे.

Sponsored
Views 54
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शिवम राव मणि
Posts 8
Total Views 191

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia