नन्ही चिड़िया

सुषमा दुबे

रचनाकार- सुषमा दुबे

विधा- कविता

मैं तेरी नन्ही चिड़िया हूं
आसमान में मुझे उड़ा दे
बेकरार हूं उड़ने को
मां मुझको इक पंख लगा दे

बादल के हाथी और घोड़े
मैं भैया के संग खेलूंगी
रोज दूर से दिखने वाले
चंदा मामा से मिल लूंगी
बस बाबा से हां करवा दे
मां मुझको इक पंख लगा दे

चमकीली बिजली से चमचम
घर अपना रोशन कर दूंगी
आसमान से तारे चुनकर
बाबा की जेबे भर दूंगी
बस दादी का मन बनवा दे
मां मुझको इक पंख लगा दे

सतरंगी चूनर ओढ़ूंगी
बूंदो की पायल पहनूंगी
बादल चाचा से काजल
मैं तेरे लिए खरीदूंगी
बस दादा को तू समझा दे
मां मुझको इक पंख लगा दे

नील गगन मे उड़ जाउंगीं
सपने पूरे कर आउंगी
मेरी चिंता तू मत करना
जल्दी घर वापस आऊंगी
थोड़ी सी हिम्मत दिखला दे
मां मुझको इक पंख लगा दे

सुषमा दुबे , विजयनगर इंदौर

Views 157
Sponsored
Author
सुषमा दुबे
Posts 1
Total Views 157
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia