नन्हा बचपन

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

Happy raksha bandhan to all brothers & sisters.
🌹🎆🌹🎆🌹
मानस पटल पर आज,
फिर नन्हा बचपन छा गया ।

धुंधला – सा,
हर बात याद आ गया ।

वो राखी पर,
आपस में लड़ना ।
पहले मुझे, पहले मुझे,
ऐसा कह,
कलाई का आगे बढ़ाना ।

सबसे सुन्दर उपहार,
देने की आपस में,
प्रतियोगिता करना ।

तीन भाई की
एक अकेली बहना ।
कितने सुहाने दिन थे,
उन दिनों का क्या कहना ।

बड़े भाई की
छत्रछाया में बढ़ना ।
और छोटों से
लाड करना ।

थोड़ा लड़ना – झगड़ना,
रूठना, मनाना,
हर बात पर चिढ़ाना ।
एक दूसरे के लिए
जान हथेली पर रखना ।

मानस पटल परआज,
फिर नन्हा बचपन छा गया ।

धुंधला सा,
हर बात याद आ गया ।
—लक्ष्मी सिंह 🌹

Views 149
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 214
Total Views 104.8k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia