नतमस्तक हुआ विज्ञान

Rita Singh

रचनाकार- Rita Singh

विधा- कविता

नत मस्तक हुआ विज्ञान
आज प्रकृति के आगे ,
प्रदूषण की है मार पड़ी
कहाँ जाएँ मनुज अभागे ।
साँस लेना भी हो गया दूभर
प्राण वायु भी नखरे दिखलाए,
बता दो ऐ दिल्ली हमको
जाएँ तो अब कहाँ जाएँ ।
दूर दूर से आए यहाँ हम
रोजी रोटी कमाने को ,
पर रहना भी है अब मुश्किल
जब हवा शुद्ध नहीं जीने को ।
क्या होगा भौतिक विकास का
जब पर्यावरण ही दूषित होगा ,
बीमार मनुष्यता क्या करेगी
जब स्वस्थ नहीं तन मन होगा ।
जागो मानुष अब भी जागो
प्रकृति का सम्मान करो ,
वृक्ष लगाकर सूखी धरती पर
उसका पूर्ण शृंगार करो ।
देगी सुफल वो उसका तुमको
पीढ़ियाँ तक सुख उठाएँगी ,
हरी भरी होकर ये धरती
प्रदूषण मुक्त हो जाएगी ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली ।

Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Singh
Posts 74
Total Views 2.7k
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन बनाए रखने की कल्पना ही कलम द्वारा कुछ शब्दों की रचना को प्रेरित करती है , वही शब्द रचना मेरी कविता है । .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia