“नए समाज की ओर”** काव्यात्मक लघु नाटिका

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- अन्य

पात्र- माँ , बेटी , पिता और सूत्रधार
**************************

*** सूत्रधार – आज देश में कई प्रकार की बुराइयाँ फैली हुई है | इन बुराइयों और रूढ़िवादिता को त्याग कर ही हम अपने देश के उत्थान में अपना योगदान दे सकते हैं |शिक्षा संबंधी अधिकार जो संविधान द्वारा हम सभी पर समान रुप से लागू है जिसके अनुसार सभी को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है |यह लघु नाटिका इसी अधिकार से संबंधित है| आज भी समाज में कुछ ऐसे समुदाय हैं जो अपनी बेटियों को इस अधिकार से वंचित रखते हैं |हमें उनकी इस सोच को बदलना होगा |
तो चलिए चलते हैं " नए समाज की ओर नई सोच के साथ|"

*** सूत्रधार- बेटी माँ के समक्ष अपने पढ़ने की इच्छा को जाहिर करती है |

** बेटी- माँ मैं भी हूँ पढ़ना चाहती |जीवन में ,मैं कुछ करना चाहती |
क्या है यह ? मुझको अधिकार |

** माँ- हाँ बेटी, जो चाह है तेरी वहीं चाह मेरी भी है|
पढ़-लिख कर तू नाम कमाए चाह यही मेरी भी है |

** बेटी- पढ़-लिख कर मैं बनना चाहती टीचर,डॉक्टर या कलाकार |
क्या मैं हूँ कम किसी बाल से मुझको भी है यह अधिकार |

** माँ- मेरा भी यह था एक सपना कि मैं भी पढ़ लिख जाऊँ |
पर जो मैं न कर पाई और जिस वजह से न कर पाई ऐसा पल न आने दूँगी मैं अब तेरे साथ |

** बेटी- माँ! अब क्या यह होगा संभव मुझको बतला दे तू इस पल |

** माँ- समझाऊँगी तेरे बापू को न समझो गहना बेटी को |
खुले गगन में पंख फैलाकर उड़ने दो उन्मुक्त गगन में |

**** सूत्रधार- पिता, माँ और बेटी की यह सारी बातें सुन रहा होता है वह गुस्से में कहते हैं |

** बापू- जोर जोर से क्यों चिल्लाए |मुझको यह तू क्यों समझाए |
रहना है हमको समाज में तुझको यह क्यों समझ न आए |

** बेटी- ऐ प्यारे बापू, मैं बतलाती तुम्हें
क्या मुझको बनना है |
देश की सेवा करके ही मुझको जीवन अर्पण करना है |
नहीं मुझे परवाह समाज की |
क्या कहता क्या सोच है इसकी ?
पर यह मेरा छोटा सा सपना तुम को ही पूरा करना है |

** बापू- लड़की होती है धन पराया उसका ख्याल हमें रखना है |
ऊँच-नीच न हो जाए इसका भी ध्यान हमें रखना है |
लड़की होती है घर की शोभा घर में ही है उसको रहना |
घर परिवार की सेवा करना यही तक ही है उसकी सीमा-रेखा |

** माँ- अरे सुनो! मुन्नी के बापू संकीर्ण विचार का त्याग करो |
पढ़ा-लिखा बेटी को अपनी स्वावलंबी बनाने का प्रयास करो |
फेंक निकालो इस विचार को बेटी की है कोई सीमा रेखा और उसे है केवल इस चारदीवारी में ही रहना |

** बेटी- जन्मदाता मेरे पालनकर्ता मान भी जाओ यह मेरी बात |
अपनी हामी दे कर दे दो मुझको शिक्षा का मौलिक अधिकार |

** माँ- बेटी ईश्वर की अनुकंपा ,बेटी है अनमोल धरोहर|
जीवन है उसका अधिकार ,शिक्षा है उसका हथियार |
न करो निहत्था उसको तुम, दे दो उसको उसका अधिकार |

**** सूत्रधार- माँ और बेटी के समझाने पर पिता को यह बात समझ में आ जाती है | बेटी की करुणा भरी पुकार से पिता का मन पिघल जाता है

** बापू- ऐ मेरी प्यारी सी बेटी, लाडो सी प्यारी सी बेटी |
यह बात समझ आ गई है अब |
न किसी से कम होती है बेटी |
आज अभी से इस विचार का त्याग यहीं मैं करता हूँ और सभी को आज अभी संदेश यही में देता हूँ|
माना,माना होती बेटी एक गहना उजियारा जो लाती है |
पढ़-लिख जाए तो समाज को नई दिशा दिखलाती है |

** माँ/बापू – इसीलिए ऐ लोगों सुन लो |मत रहने दो बेटी को अनपढ़ |
जग जाओ उठ जाओ ,जाग जाओ उठ जाओ |
"बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ" इस देश के आने वाले कल को जगमग ,उज्जवल सुंदर बनाओ |

**** सुत्रधार- बेटियाँ उगते सूरज की नई किरण हैं जो एक नए समाज का उत्थान करने और उसे नई दिशा प्रदान करने की क्षमता रखती है|
बेटी अभिशाप नहीं है |
बेटी सृष्टि का मूल आधार हैं |
बेटी संस्कृति की संवाहक है |
बेटी भविष्य की जन्मदात्री है |
बेटी है तो कल है |
बेटी शिक्षित है तो भविष्य सभी का उज्ज्वल है |

*******धन्यवाद*****

Sponsored
Views 68
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 95
Total Views 5.7k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह) myneerumohan.blogspot.com Mail Id- neerumohan6@gmail.com mohanjitender22@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia