******धुंधली सी यादें******

N M

रचनाकार- N M

विधा- कविता

*************************
आज खामोश है जमाना,
बोलती हैं केवल तस्वीरें ही|
यही आधुनिकता है,
पुरातन नहीं कहीं से भी |
रोज सुबह उठती हूँ,
सोचती हूँ हर बार |
क्या लौटकर आएगा वो जमाना,
फिर से एक बार |
कुछ अटखेलियाँ कुछ थोड़ा सा प्यार और दुलार |
बचपन में करी मस्ती की,
हर बात और तकरार |
क्या कभी हम भूल पाएँगे,
मन में छपी तस्वीरों की यह बात |
रोज लड़ते थे, झगड़ते थे,
देखने को उनको यूँ मचलते थे |
आज सामने वही है,
पर मिलता नहीं पलभर भी समय बिताने को उनके साथ |
छूटा वह समय लौटकर फिर कभी नहीं आएगा |
यूँ ही तस्वीरों से बहलाएँगे मन,
फसाना यूँ ही बनकर छूट जाएगा |
मौत की शैय्या पर लेटे होंगे जिस दिन हम, उस दिन जमाना फिर से हमें यूँ ही तस्वीरों में लटकाएगा |

Sponsored
Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
N M
Posts 105
Total Views 8k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह) myneerumohan.blogspot.com Mail Id- neerumohan6@gmail.com mohanjitender22@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia