धर्म कोई कहता नहीं

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- कविता

दर्द दे कर तूने क्या पाया ?
क्या दर्द देने ही जहां में आया ?

देकर खुशियां थोड़ी खुशियां ले लो,
ऐसे न तुम जीवन से खेलो,

जीने दो औरों को और तुम खुद भी ,
अपना जीवन जी लो,

पत्थर सा तेरा दिल क्यों है?
धर्म के नाम मरता मारता क्यों है ?

मासूम बेगुनाहों को बेवजह,
डरा धमका संघारता क्यों है ?

धर्म कोई कहता नहीं हैl
जान लेने देने को,
गुरु ग्रंथ साहिब, बाइबल ,गीता और कुरान तुम देखो, एक एक पन्ने मानवता का संदेश देते भगवान देखो ,

इंसान बन धरा पर आया ,
इंसानियत का न तुझे ,
कोई यहां पाठ पढ़ाया l
उल्टी-सीधी बातें बता कर तुझे तेरी राह से भटकाया,

जीवन तेरा तेज हवा का झोंका ,
कब आया कब चला गया ,
तुझे इसका भान नहीं कि तू कितना यहां छला गया l

©® रीता यादव

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 24
Total Views 722

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia