दो सवैया छंद

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- अन्य

दो सवैया छंद

देश हुआ बदहाल यहाँ अब चैन कहीँ मिलता किसको है
चैन भरा दिन काट रहे सब लूट लिए दिखता किसको है
भारत की परवाह नहीँ यह सत्य यहाँ जचता किसको है
ऐश करे अगुवा पर शुल्क यहाँ भरना पड़ता किसको है

पाप यहाँ पर रोज बढ़े पर धीर धरे छुप के रहती है
जुल्म हुआ इतना फिर भी चुप है कि नहीं कुछ भी कहती है
झूठ कहे अगुवा जिस पे सब काज गवाँ कर के ढहती है
सोच रहा यह भारत की जनता कितना कितना सहती

– आकाश महेशपुरी

Views 170
Sponsored
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 76
Total Views 1k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia