दो चार करेंगे

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- गज़ल/गीतिका

हम आपसे आँखे फिर दो चार करेंगे
हर रोज नये रूप में स्वीकार करेंगे

फेरे हमने सात लगाये संग तेरे
तेरे पर हम तो फिर से ही अधिकार करेंगे

गर बात हमारी सब मानो यदि तुम तो
तब हम सबके साथ ही परिवार करेंगे

तीखे बन जाओ जब मेरे ही लिए तो
जीना हम तेरा तब दुश्वार करेंगें

जब प्यार भरी बात करोगे हमसे तो
जीवन तुम पर हम फिर आभार करेंगे

जब छोड़ के हमको तुम जाओगे कहीँ तो
वापस तब आने पर पुचकार करेंगे

जीवन भर हम साथ निभाये अब तेरा
सच्ची कहते है कि न हथियार करेंगे

बाधा यदि आये न निभा साथ मैं पाऊँ
मैं छोड़ू न तुमको तब गद्दार करेंगे

जब नींद हमें रात न आयें बिन तेरे
तब प्यार करो तुम यह इजहार करेंगे

हमको बरसों बाद मिला है प्रियतम जो
जी भर हम उसका अब दीदार करेंगे

मीठी मधु शाला से भरी कैसे तुम हो
अब हम मधु भावों का व्यापार करेंगे

डॉ मधु त्रिवेदी

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 277
Total Views 3.9k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia