दो कुण्डलिनी छंद

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- अन्य

दो कुण्डलिनी छंद
1-
कितनी छोटी हो गयी, है मानव की सोच,
आगे बढ़ने के लिए, रहा स्वयं को नोच।
रहा स्वयं को नोच, बढ़ी लालच है इतनी,
और-और का फेर, दुखी दुनिया है कितनी।।
2-
आदत जिनकी हो गयी, लेकर खाना कर्ज,
कामचोर हैं हो गये, भूल गये हैं फर्ज।
भूल गये हैं फर्ज, नहीं पाते वे राहत,
बस लेना ही कर्ज, हुई है जिनकी आदत।।

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 68
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 85
Total Views 6k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia