दोहे-

ramesh kumar chauhan

रचनाकार- ramesh kumar chauhan

विधा- दोहे

जाति जाति के अंग से, एक कहाये देह ।
काम करे सब साथ में, देह जगाये नेह ।
हाथ पैर का शत्रु हो, पीठ पेट में बैर ।
काया कैसे देश की, माने अपनी खैर ।।
पंड़ित वह काश्मीर का, पूछ रहा है प्रश्न ।
टूटे मेरे घोसले, उनके घर क्यों जश्न ।।
हिन्दू हिन्दी देश में, लगते हैं असहाय ।
दूर देश की धूल को, जब जन माथ लगाय ।।
‘कैराना‘ इस देश का, बता रहा पहचान ।
हिन्दू का इस हिन्द में, कितना है सम्मान ।।
दफ्तर दफ्तर देख लो, या शिक्षण संस्थान ।
हिन्दी कहते हैं किसे, कितनों को पहचान ।।
-रमेश चौहान

Sponsored
Views 134
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ramesh kumar chauhan
Posts 2
Total Views 135
हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी भाषा में भारतीय छंद विधा का कवि

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia