दोहे….

शालिनी साहू

रचनाकार- शालिनी साहू

विधा- दोहे

दोहा…
.
कउन कहै मन के बात, कउन सुनावै तान|
मन कैदी होय गा अब,जब से कीन प्रणाम||
.
पूजन अर्चन सब करा, दीन दीया जलाय|
पूरी होयगै पूजा, माँग न पावा आय||
.
सालत रही मन मा बात, कुछौ न भा उपाय|
जउन रहा वहू गा सब, दीन कहाँ से आय||
.
माटी होयगा सबै, जऊन कीन कमाय|
घर के लुगदी घर रहै, दूसर के न मिलाय||
.
तिल-तिल जोड़ा जायके,महल खड़ा तव जाय|
एकै बार मा सब गवा,अब कछु बचा न भाय||
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शालिनी साहू
Posts 53
Total Views 490

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia