दोहे….

शालिनी साहू

रचनाकार- शालिनी साहू

विधा- दोहे

दोहा…
.
कउन कहै मन के बात, कउन सुनावै तान|
मन कैदी होय गा अब,जब से कीन प्रणाम||
.
पूजन अर्चन सब करा, दीन दीया जलाय|
पूरी होयगै पूजा, माँग न पावा आय||
.
सालत रही मन मा बात, कुछौ न भा उपाय|
जउन रहा वहू गा सब, दीन कहाँ से आय||
.
माटी होयगा सबै, जऊन कीन कमाय|
घर के लुगदी घर रहै, दूसर के न मिलाय||
.
तिल-तिल जोड़ा जायके,महल खड़ा तव जाय|
एकै बार मा सब गवा,अब कछु बचा न भाय||
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 1
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
शालिनी साहू
Posts 36
Total Views 184

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia