दोहे

निर्मला कपिला

रचनाकार- निर्मला कपिला

विधा- दोहे

सब धर्मों से ही बडा देश प्रेम को मान

सोने की चिडिया बने भारत देश महान ।

शाम तुझे पुकार रही सखियाँ करें विलाप

पूछ रही रो रो सभी कहाँ शाम जी आप ।

दीप जलाये देखती रोज़ पिया की राह

साजन जब आये नही मन से निकले आह

\लिये चलो मन वावरे प्रभु मिलन की आस

छोड न उसका दर कभी बुझ जायेगी प्यास

तिनका तिनका जोड कर नीड बनाया आज

अब इसमे हर रोज़ ही बजें खुशी के साज

लूट लिया इस वक्त ने मेरे दिल का चैन

बिछुडे मीत मिले नही नीर बहें दिन रैन

इस जोगन को छोड कर कहाँ गये घनश्याम

तुझ दर्शन की प्यास मे ढूँढे चारों धाम

सुगन्ध देखो फूल की सब को रही सुहाय

सीरत हो इन्सान की फूल सा हो सुभाय

Sponsored
Views 21
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निर्मला कपिला
Posts 71
Total Views 12.9k
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
3 comments
  1. वाह ! वाह ! बहुत सुंदर दोहे रचे हैं आदरणीया निर्मला जी. बहुत-बहुत बधाई स्वीकारें. फिरभी दुसरे और अंतिम दोहों में आयी शिल्पगत त्रुटियों को देख लें. सादर.