दोहे ताजा घटनाक्रम पर

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

बाजारों में मच गया, जमकर हाहाकार !
आतंकी हैं खौफ में,.. जनता है लाचार !!

नोट हजारी पांच सौ,…… हुए आज से बंद !
बाजारों की हो गई, गति भी सँग-सँग मंद !!

कालाधन माटी हुआ, सहमा भ्रष्टाचार !
आयी है अब रंग में, मोदी की सरकार !!

कालेधन के जोर पर, ..करते थे उत्पात !
मिली उन्हे सरकार से,बडी करारी मात ! !

काले धन पर क्या किया,देते थे इल्जाम !
उनके उल्टे पड गये, पासे आज तमाम !!

अब तो भ्रष्टाचार पर,…..शायद कसे लगाम !
बडा कदम सरकार का,कर जाए कुछ काम !!

नोट हजारी पाँचसौ, हुए आज अखबार !
यही सोच कर रो रहे,.घूसखोर मक्कार ! !

बीवी को आई नही,……पाकिट मारी रास !
मोदी जी की चाल इक, बनी गले की फास !!

नोट हजारी अनगिनत,.बीवी रही निकाल !
अलमारी मे आजतक, जो थे रखे सम्हाल !!

हुए निरर्थक नोट सब, ..सौ से बड़े तमाम !
गुल्लक बेटी की मुझे,आखिर आई काम !!
रमेेश शर्मा.

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 37
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 133
Total Views 1.4k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment