*दोहे और भक्ति-आंदोलन*

Mahender Singh

रचनाकार- Mahender Singh

विधा- दोहे

1.
ममता उतनी ही भली,जासे उपजे ध्यान,
उस सहयोग का कौन मूल्य,जो बना दे असहाय,
2.
प्रेमी खोजने मैं चला, प्रेमी मिला न कोई,
जो मिले सो दिलज़ले..
दिल का तो.. मालूम नहीं,
सब "मन की हाल" सुनाते..।
3.
गिर गिर और गिर देंखे किस हद तक गिर पाए,
जिस क्षण हिय विवेक जगे,फिर गिर न पाये,
4.
भले खासे निन्यान्वे जुड़े रहे, सौ न पूरे होए
यो ऐसा चक्कर पड़ा,अन्ध पिसे कुत्ता खाय
5.
सबर संतोष चाहिए, जो होए भौतिक व्यवहार,
बे-सबरा होकर रहिये,जहाँ बात ज्ञान कि होवे
6.
भूख को खाकर,नींद को सो कर,
वासना को सिंचकर न कोई तृप्त हुआ,
न होने के ..आकार,
बस "समझ" एक उपाय जो दे पिण्ड छुड़ाए,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

Sponsored
Views 48
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahender Singh
Posts 74
Total Views 1.5k
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia