तीन छंद

डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना

रचनाकार- डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना

विधा- अन्य

आग इर्ष्या की जलाती उसे जो जलता है
जैसे लकडी कोई जलती है राख होती है

हम जो कल थे वही हैं आज,मुस्कुराते है
गमों के बीच भी, मस्ताना कहे जाते हैं

हारता है वो जो जीतने के लिये मरता है
हम तो हर हार में जीतने की खुशी पाते हैं
@डॉ.गोरख प्रसाद मस्ताना

Sponsored
Views 13
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना
Posts 4
Total Views 54
नाम : डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना जन्म तिथि : 01 फ़रवरी, 1954 निवास : "कव्यांगन", पुरानी गुदरी, महाबीर चौक बेतिया, पश्चिमी चंपारण, बिहार - 845438 शिक्षा : एम.ए. (त्रय), पीएच -डी (हिंदी) प्रकाशित पुस्तक : (1 )जिनगी पहाड़ हो गईल (भोजपुरी काव्य संग्रह) ( जयप्रकाश विश्वविध्यालय, छपरा एवं वीर कुंवर सिंह विश्व विद्यालय, आरा के एम ए (भोजपुरी) पाठ्यपुस्तक)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia