दोहा

ATUL PUNDHIR

रचनाकार- ATUL PUNDHIR

विधा- दोहे

पलकें अनशन कर रहीं, आँखें बेउम्मीद
अगर मोल मिल जाय तो, ला दो कोई नींद

बेलन जब सर पर पड़े, चले न कोई जोर
बीबी जब मारन लगी, कर न पाये शोर

अतुल पुण्ढीर

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Author
ATUL PUNDHIR
Posts 5
Total Views 36

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia