देश हो रहा शहरी

बसंत कुमार शर्मा

रचनाकार- बसंत कुमार शर्मा

विधा- गीत

गाँव ढूंढते ठौर ठिकाना,
देश हो रहा शहरी.
नहीं चहक अब गौरैया की,
देती हमें सुनाई.
तोता-मैना, बुलबुल, कागा,
पड़ते नहीं दिखाई.
लुप्त हो रहे पीपल बरगद,
फुदके कहाँ गिलहरी.
ऐ सी लगे हुए कमरों में,
खिड़की में भी परदे.
बच्चे बूढ़े यहाँ आजकल,
रहने लगे अलहदे.
कॉलोनी के मेन गेट पर,
चौकस बैठे प्रहरी.
तार तार होते रिश्ते हैं,
लगे जिन्दगी सैटिंग.
फिर भी देर रात तक होती,
मोबाइल पर चैटिंग.
देख न पाता कोई भोर की,
सूरज किरण सुनहरी.
लिए उस्तरा पहुँचा वन तक,
अब मानव का पंजा.
किसे पता कब किस पहाड़ को,
कर डालेगा गंजा.
सिसकी भोर सांझ भी रोई,
चीखी खूब दुपहरी.

Sponsored
Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बसंत कुमार शर्मा
Posts 90
Total Views 1.4k
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia