देश के वीरों के लिए

आलोक प्रतापगढ़ी

रचनाकार- आलोक प्रतापगढ़ी

विधा- कविता

मेरी कविता देश के वीरों को समर्पित है।

ना धन चाहिए, ना रतन चाहिए।
हमको, पूरा मेरा वतन चाहिए।।

कट गये जिनके सर, इस वतन के लिए।
ऐसे वीरों का हमको, संग चाहिए।।

माँ के चेहरे पर ना, कोई शिकन चाहिए।
बेटियों की भी आँखें ना, नम चाहिए।।

मिट गये देश के लिए, जो हँसते हुए।
ऐसे देश में हमको, जनम चाहिए।।

ना धन चाहिए, ना रतन चाहिए।
हमको, पूरा मेरा वतन चाहिए।।

कवि: आलोक सिंह प्रतापगढ़ी

Views 2
Sponsored
Author
आलोक प्रतापगढ़ी
Posts 3
Total Views 21
कवि आलोक सिंह प्रतापगढ़ी
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia