देवी

Rajeev 'Prakhar'

रचनाकार- Rajeev 'Prakhar'

विधा- गीत

देकर नारी-शक्ति का नारा,
ये क्या ढोंग रचाते हैं l
देवी से नफ़रत करके,
देवी को शीष नवाते हैं l
देकर नारी-शक्ति का नारा ..

कहीं पे कोई किसी गर्भ में,
स्त्री-भ्रूण जो पलता है l
तो नाजायज़ हथकण्डों से,
उसका पता जो चलता है l
फिर मानवता के दुश्मन,
उसका क़त्ल कराते हैं l
देवी से नफ़रत करके,
देवी को शीष नवाते हैं l
देकर नारी-शक्ति का नारा ..

जब ज़रूरत हो तो बेटी भी,
बेटे सी बन सकती है l
चट्टानों के आगे वह भी,
अडिग-अचल तन सकती है l
पढ़े-लिखे लोगों में भी,
अनपढ़ से मिल जाते हैं l
देवी से नफ़रत करके,
देवी को शीष नवाते हैं l
देकर नारी-शक्ति का नारा ..

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

-राजीव 'प्रखर'
मो. 8941912642
(वास्तविक नाम – राजीव कुमार सक्सेना)
पता – मौहल्ला डिप्टी गंज,
राधा-कृष्ण मंदिर के सामने,
मुरादाबाद – 244 001 (उ. प्र.)

Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajeev 'Prakhar'
Posts 17
Total Views 752
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia