दूसरा पहलू

Shubha Mehta

रचनाकार- Shubha Mehta

विधा- कविता

देखा पलट के
पीछे की ओर
था नज़ारा वहाँ कुछ और
होठों पे थी मुस्कान
जैसे ओढ़ी हुई
उस के पीछे
छुपा दर्द भी
देखा था मैनें
हक़ीक़त यही थी
न हँसना ,न रोना
न प्यार ,न उसका अहसास
कहने को तो सभी थे अपने
फिर भी पाया अकेला स्वयं को
सब कुछ था फिर भी
दिल का एक कोना था उदास ।

Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Shubha Mehta
Posts 15
Total Views 677

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments
  1. हर जगह महफ़िल सजी पर दर्द भी मिल जायेगा
    अब हर कोई कहने लगा है आरजू बनवास की

    मौत के साये में जीती चार पल की जिंदगी
    क्या मदन ये सारी दुनिया, है बिरोधाभास की

    सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने