दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

दुलहिन के मुह देखके दादू दूर किहिन महतारी !
बाप बिचारा मरय रात दिन तबहू पाबय गारी !!

बूटी बिटिया रोटी पोबय खाय ले दादू भईया !
भउजी टाग पसारे सोबय पार करा प्रभु नईया !!

मीठ मीठ बोलिआय न दादू साढ़ू सरहज सारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

रोज बिहन्ने दाई बाबा एक कफ चाय का तरसा !
गाँजा, दारू, सुट्टा, सोटय लइके दउड़य फरसा !!

खुसुर खुसुर खुसुराय दुपहरी चढ़िके महल अटारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

भूलि गये दादू अब देखा कसके अम्मा पालिस !
नौ माह तक पेट फुलाए पेट के लाने बागिस !!

जेका पैदा किहिस अम्मबा अब ओहिन से हारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

================================
मौलिक कवि आशीष जुगनू 09200573071

Views 98
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 2.4k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments
  1. जेका पैदा किहिस अम्मबा अब ओहिन से हारी !
    दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!……….वाह ! बहुत सुंदर सृजन.