दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

दुलहिन के मुह देखके दादू दूर किहिन महतारी !
बाप बिचारा मरय रात दिन तबहू पाबय गारी !!

बूटी बिटिया रोटी पोबय खाय ले दादू भईया !
भउजी टाग पसारे सोबय पार करा प्रभु नईया !!

मीठ मीठ बोलिआय न दादू साढ़ू सरहज सारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

रोज बिहन्ने दाई बाबा एक कफ चाय का तरसा !
गाँजा, दारू, सुट्टा, सोटय लइके दउड़य फरसा !!

खुसुर खुसुर खुसुराय दुपहरी चढ़िके महल अटारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

भूलि गये दादू अब देखा कसके अम्मा पालिस !
नौ माह तक पेट फुलाए पेट के लाने बागिस !!

जेका पैदा किहिस अम्मबा अब ओहिन से हारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

================================
मौलिक कवि आशीष जुगनू 09200573071

Views 86
Sponsored
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 1.5k
love is life
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments
  1. जेका पैदा किहिस अम्मबा अब ओहिन से हारी !
    दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!……….वाह ! बहुत सुंदर सृजन.