दुर्मिल सवैया :– चित चोर बड़ा बृजभान सखी – भाग -3

Anuj Tiwari

रचनाकार- Anuj Tiwari "इन्दवार"

विधा- अन्य

दुर्मिल सवैया :–
चितचोर बड़ा घनश्याम सखी – भाग-3
मात्राभार :–
112 112 112 112
112 112 112 112

जब कंस वधे सब काम सधा
नर नार सभी जयकार कियो !

नर रूप धरे भगवान यहां
जग तारण को अवतार लियो !

जलपान किया प्रभु नें रति का
सब नार अभागन तार दियो !

मन में उमड़े व्यभिचार हरो
भर दो उंजियार हरो तम को !

Views 95
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anuj Tiwari
Posts 107
Total Views 16.3k
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी मोबाइल नम्बर --9158688418 anujtiwari.jbp@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment