दुनिया और हम

Versha Varshney

रचनाकार- Versha Varshney

विधा- कविता

हैरान हो जाती हूँ दुनिया को देखकर ,
समझ में कुछ नहीं आता ।
भरते हैं जो हर पल दावा वफ़ा का ,
भुलाने में क्यों एक पल भी नहीं जाता ।
झरते हैं आँखों से अश्क कुछ इस तरह ,
जैसे बिन बादल की बरसात हो ।
रोते हैं छिप कर दीवारों से भी ,
जिन्हें महफ़िल में रोना नहीं आता ।
जख्म हैं या इलाही किसी चोट के
या कर्मों का जनाजा निकाला है ।
गैरों के साथ रहते हैं फक्र से ,
अपनों का दर्द सहा नहीं जाता ।
दरिया दिल होकर भी हाथ मलते रहे ,
जाने क्यों मरहम भी फ्री नहीं आता ।
जश्ने इश्क़ में भुला दिया खुद को ,
कुछ इस तरह जैसे दर्द से नहीं है ,
अपना जन्मों से कोई नाता ।।

Sponsored
Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Versha Varshney
Posts 13
Total Views 1.2k
कवियित्री और लेखिका अलीगढ़ यू पी !_यही है_ जिंदगी" मेरा कविता संग्रह है ! विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में लेखन ! साझा संकलन -१.भारत की प्रतिभाशाली हिंदी कवयित्रियाँ ! २.पुष्पगंधा pride of the women award 2017 Money is not important then love,bec love is God n God is our life . my blog -http://vershavarshney.blogspot.in/ my page -https://www.facebook.com/versha22.writer/?ref=aymt_homepage_panel .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia