**दुख-सुख की सिर्फ एक ही साथी** नर नहीं है वो है सिर्फ नारी

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- कविता

** दुख सुख में जो साथ है देती
और नहीं कोई, नारी है
मुश्किल से जो जूझ है जाती
और नहीं कोई, नारी है

** रोने कभी नहीं देती वो
खुद सहती खुद रोती है
ममता देती पीड़ा सहती
मुँह से कुछ नहीं कहती है

** पुरुष प्रधान समाज में रहती
फिर भी अस्तित्व बना लेती
अपने को नहीं मिटने देती
साख अपनी बना लेती

** रोज सुबह उठकर के भी वह
काम सभी कर लेती है
शक्ति इतनी है उसमें
घर परिवार की देखभाल
रोजगार भी वह कर लेती है

** देवों ने भी माना लोहा
नारी ही वह शक्ति है
जिसके आगे नर मानव की
स्वयं अपनी अधूरी हस्ती है

** नारी से ही पूर्ण है नर
नारी से ही संपूर्ण शक्ति है
नारी से ही बना है नर
नारी से ही बल और बुद्धि है

** नीरु की वाणी ऐ मानव
रखना तुम हमेशा याद
नारी का न करना अपमान
इसे देना भरपूर सम्मान
भरपूर सम्मान जो दोगे इसको
जीवन में पाओगे यश और मान

** याद हमेशा रखना यह तुम
नारी है ,कमज़ोर नहीं ये

** दुख-सुख की है एक ही साथी
नर नहीं है वह है सिर्फ नारी

Views 45
Sponsored
Author
Neeru Mohan
Posts 44
Total Views 1.5k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia