दीपावली की दीपमालिका

Dr. Chitra Gupta

रचनाकार- Dr. Chitra Gupta

विधा- कविता

दीपावली की दीपमालिका
झिलमिल झिलमिल करती आई
उर अंधकार मिटाकर सबके
खुशियों की सौगात लायी
राग-द्वेष का भेद मिटाकर
हृदय पवित्र बना लो अपने
दीपों के इस शुभ अवसर पर
मन-प्रकाश के दीप जलालो
जगमग-जगमग करते दीपक
सब अंधकार मिटायेंगे
हंसी-खुशी की फुलझड़ियों से
सबका मन हर्षायेंगे
दीपावली की शुभ बेला पर
मिलकर जश्न मनायेंगे

-डॉ चित्रा गुप्ता

Views 30
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr. Chitra Gupta
Posts 8
Total Views 247

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia